Home / देश में धूमधाम से मनाया गया गणतंत्र दिवस।

देश में धूमधाम से मनाया गया गणतंत्र दिवस।

देश के लोगों ने आज मनाया 71 वां गणतंत्र दिवस, या एक दिन और छुट्टी का लिया आनंद|

भारत देश और देशवासी ने आज गर्व से मनाया 71 वां गणतंत्र दिवस गणतंत्र दिवस पर राजपथ पर आज 90 मिनट देश की एकता शौर्य और वैज्ञानिक तरक्की का प्रदर्शन किया गया, जिसे समूचे विश्व ने टकटकी लगाकर देखा पूरे विश्व भर में गणतंत्र दिवस की परेड बड़े ही सम्मान से देखी जाती है|
लेकिन एक और पूरा विश्व भारत देश में संविधान में हुए संशोधन और देश को शर्मसार करते आंदोलनों को भी देख रहा है ऐसा क्यों❓ हिंदुस्तान में सरकार चाहे किसी भी प्रतिष्ठित पार्टी की रही हो लेकिन समझना और समझाना (कॉन्स्टिट्यूशन ऑफ इंडिया) मे फेरबदल होना ने एक देश में ही आतंक का रूप क्यों ले लिया |दोनों पार्टियों का दायित्व बनता है आज क्यों मेरा देश पूरे विश्व में संविधान में हुए कुछ बिंदुओं के बदलाव के कारण लेकर हुए इतने बड़े आंदोलन के लिए शर्मसार हो रहा है, आज राजपथ पर फिर निकली देश की गौरव और सामर्थ्य की झांकी जिसे देख आज नन्हे बच्चों ने भी सेल्यूट कर उन देश के वीरों का सम्मान किया| और शायद आज के दिन छुट्टी मनाने का दिन मान कर हिंदुस्तान के लोगों ने देश का गौरव बढ़ाते राजपथ की इस परेड को नजरअंदाज भी कर दिया होगा|
राजपथ पर जहां एक और देश के विभिन्न राज्यों की झांकियां दिखा गई वही, सीआरपीएफ महिलाओं की एक टुकड़ी मोटरसाइकिल पर स्टंट करते भी नजर आई दूसरी ओर आसमान का सीना चीर कर हमारे वायु सेना के जहाज गड़गड़ाहट करते हुए जब दर्शकों के ऊपर से निकले तो दर्शक दीर्घा में बैठा हर हिंदुस्तानी खुद पे खुद सेल्यूट करने लगा|
लेकिन अभी भी एक प्रश्न बाकी के क्यों ❓ हम देश की आंतरिक व्यवस्था को संभाल नहीं पा रहे, यह पोस्ट किसी भी राजनीतिक पार्टी या किसी व्यक्तिगत राजनेता से संबंधित नहीं है.

*देश के लोगों ने आज मनाया 71 वां गणतंत्र दिवस, या एक दिन और छुट्टी का लिया आनंद|* *भारत देश और देशवासी ने आज गर्व से मनाया 71 वां गणतंत्र दिवस गणतंत्र दिवस पर राजपथ पर आज 90 मिनट देश की एकता शौर्य और वैज्ञानिक तरक्की का प्रदर्शन किया गया, जिसे समूचे विश्व ने टकटकी लगाकर देखा पूरे विश्व भर में गणतंत्र दिवस की परेड बड़े ही सम्मान से देखी जाती है|* *लेकिन एक और पूरा विश्व भारत देश में संविधान में हुए संशोधन और देश को शर्मसार करते आंदोलनों को भी देख रहा है ऐसा क्यों❓ हिंदुस्तान में सरकार चाहे किसी भी प्रतिष्ठित पार्टी की रही हो लेकिन समझना और समझाना (कॉन्स्टिट्यूशन ऑफ इंडिया) मे फेरबदल होना ने एक देश में ही आतंक का रूप क्यों ले लिया |दोनों पार्टियों का दायित्व बनता है आज क्यों मेरा देश पूरे विश्व में संविधान में हुए कुछ बिंदुओं के बदलाव के कारण लेकर हुए इतने बड़े आंदोलन के लिए शर्मसार हो रहा है, आज राजपथ पर फिर निकली देश की गौरव और सामर्थ्य की झांकी जिसे देख आज नन्हे बच्चों ने भी सेल्यूट कर उन देश के वीरों का सम्मान किया| और शायद आज के दिन छुट्टी मनाने का दिन मान कर हिंदुस्तान के लोगों ने देश का गौरव बढ़ाते राजपथ की इस परेड को नजरअंदाज भी कर दिया होगा|* *राजपथ पर जहां एक और देश के विभिन्न राज्यों की झांकियां दिखा गई वही, सीआरपीएफ महिलाओं की एक टुकड़ी मोटरसाइकिल पर स्टंट करते भी नजर आई दूसरी ओर आसमान का सीना चीर कर हमारे वायु सेना के जहाज गड़गड़ाहट करते हुए जब दर्शकों के ऊपर से निकले तो दर्शक दीर्घा में बैठा हर हिंदुस्तानी खुद पे खुद सेल्यूट करने लगा|* *लेकिन अभी भी एक प्रश्न बाकी के क्यों ❓ हम देश की आंतरिक व्यवस्था को संभाल नहीं पा रहे, यह पोस्ट किसी भी राजनीतिक पार्टी या किसी व्यक्तिगत राजनेता से संबंधित नहीं है.* जय हिंद की सेना🇮🇳🇮🇳, जय हिंद की सेना🇮🇳🇮🇳 रिपोर्ट यूनिक टुडे संवाददाता