Wednesday , November 20 2019
Breaking News
Home / प्रदेश / उत्तर प्रदेश / ये महासभा की दो बड़ी शानदार उपलब्धि तो हैं

ये महासभा की दो बड़ी शानदार उपलब्धि तो हैं

श्रीगोपाल गुप्ता

बचपन में होस संभाला तब से हम सब हाल ही तक देखते आ रहे थे कि हम माथुर वैश्यों का एक ही बड़ा उत्सब था, वर्ष में एक बार मनने वाला अखिल भारतीय माथुर वैश्य महासभा जयंती समारोह!पहले ये समारोह कहीं-कहीं किसी-किसी शहर में दो-तीन दिवसीय होता था तो कहीं किसी शहर में चार-पांच दिवसीय भी मनाया जाता था। एक दिन बच्चों की खेल-कूंद प्रतियोगिता तो एक दिन वाद-विवाद प्रतियोगिता तो फिर एक दिन महिलाओं के कार्यक्रम और फिर अंत मुख्य जयंती समारोह। मगर आज आर्थिक युग में जैसे सब कुछ सिमट सा गया और समारोह लगभग पूरे देश में एक ही दिन का होकर रह गया। ऐसे में वर्तमान महासभा नेतृत्व ने बेहतरीन सोच को अंजाम देते हुये ऐसे महत्वपूर्ण दो आयोजन माथुर वैश्य समाज के लिए शुरु किये जिनके बेहतर परिणाम बहुत दूर तक दिखाई पढ़ रहे हैं। एक वर्ष में एक दफा होने वाला “एकादशी उद्यापन समारोह और दूसरा वर्ष में एक मर्तबा होने वाला “राष्ट्रीय रक्तदान शिविर” इन दोनों उत्सवों ने समाज के अन्दर पर्व के रुप में मनाने की परंपरा स्थापित कर दी। जबकि रक्तदान शिविर ने तो यह कहा जाये की पर्व को भी पीछे छोड़ते हुये महापर्व का रुप ले लिया है, तो अतिशयोक्तिपूर्ण न होगा। मार्च 2017 में अपनी जीत के साथ ही माननीय राष्ट्रीय अध्यक्ष रघुनाथ प्रसाद जी और उनकी टीम के महत्वपूर्ण सितारे तात्कालीन महामंत्री श्री नीरज गुप्ता, वर्तमान महामंत्री व तत्समय महासभा के कोषाध्यक्ष श्री कुलदीप गुप्ता वर्तमान वरिष्ठ मंत्री दिलीप गिदोलिया जी, विनोद सर्राफ जी आदि ने आदरणीय स्व. प्रदीप पैंगोरिया जी द्वारा समाज को दिखाई बड़ी राह “राष्ट्रीय रक्तदान शिविर ” को हाथों-हाथ लेते हुये इसे महासभा का अधिकृत कार्यक्रम घोषित कर दिया, जिसके बेहतरीन परिणाम भी सामने आये। हजारों बोतल रक्त दान कर माथुर वैश्य समाज के लालों ने राष्ट्र के अनेक जरुरत मंद लोगों को वो रक्त देकर उनकी जान बचाई है और सिलसिला जारी है।

चूंकि इस वर्ष भी आगामी 30 जून 2019 को चतुर्थ राष्ट्रीय रक्तदान शिविर का आयोजन महासभा करने जा रही है, देश में 81 रक्तदान शिविरों की स्वीकृती हो चुकी है। पूरा भारतवर्ष देख रहा है कि आगामी 30 जून को अपना रक्त देकर देशवासियों की जान बचाने के लिये किस कदर समाज का एक- एक युवा, एक -एक महिला शक्ति और पूरा समाज जोश-खरोश के साथ दिन-रात मेहनत कर शिविर को केवल सफल ही नहीं बल्कि महासफल बनाने की राह पर कूंद गया है। जिस तरह की तैयारी युद्ध स्तर पर की जा रही है, उससे लगता है महा सफलता में कोई शंका नहीं है। इधर इस आर्थिक युग में मॅहगाई से अपने परिवारों को बचाने के लिये महासभा ने जिन परिवारों ने “एकादशी उद्यापन” का संकल्प लिया था, उनके लिए गत वर्ष 19-20 दिसंबर 2018 को अपने आगरा मुख्यालय महासभा भवन पर सामूहिक ऐकादशी का महोत्सव रखा। जिसमें देश के दूर-दराज से आये समाज के ऐकादशी उद्यापनकर्ताओं के लिए रुकने, खाने, और सभी कार्य विधी-विधान से पूर्ण कराने की व्यवस्था की। जिसका शूल्क मात्र 5100/- रुपये रखा गया। महामंत्री श्री कुलदीप गुप्ता और आगरा मंडल के मंडलाध्यक्ष आदरणीय श्री कल्याण दास का प्रस्ताव बहुत ही धूमधाम से सपन्न हुआ और उनका सपना सफल हुआ। उल्लेखनीय है कि उक्त उत्सव में राष्ट्रीय अध्यक्ष रघुनाथ प्रसाद जी सपत्नीक और तात्कालीन महामंत्री नीरज जी गुप्ता की माताजी ने भी अपनी मन्नत पूरी कर उद्यापन किया था। इस वर्ष भी यह उत्सव 8-9 दिसंबर को सपन्न होने जा रहा है और मात्र 15 दिनों मे 45 समाज के परिवारों ने पंजीयन करवा लिये है, मात्र 20 पंजीयन बाकी बचे हैं। यह याद रखने योग्य तथ्य है कि सामाजिक और उत्तम संगठन वही है जो समाज हित में और राष्ट्रहित मे कार्य कर अपनी पहचान स्थापित करे। रक्तदान राष्ट्र हित है तो कम खर्चों में ऐकादशी उद्यापन सामाजिक हित है। निश्चित ही ये दो नये महापर्व महासभा की बड़ी उपलब्धि हैं। पुनित कार्यों के लिए महासभा नेतृत्व को बहुत-बहुत बधाई एवं बहुत-बहुत शुभकामनाएं।

About Unique Today

Check Also

चंबल उफान पर खतरे के निशान से ऊपर प्रशासन ने किए पूरे पुख्ता इंतजाम

Share on: WhatsApp

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *