Breaking News
Home / प्रदेश / मध्य प्रदेश / विपक्ष की भाषा बोल रही है मुंबई

विपक्ष की भाषा बोल रही है मुंबई

 

 

मध्य प्रदेश ,लोकसभा चुनाव -2019 का बिगुल महाराष्ट्र और मुंबई के सिर पर सवार होकर बज रहा है। दोनों राष्ट्रीय पार्टी भारतीय जनता पार्टी और इंडियन नेशनल कांग्रेस ने अपने परंपरागत स्थानीय क्षत्रप पार्टियों शिवसेना और एनसीपी के साथ गठबंधन कर चुनावी जंग जीतने के लिए जोर अजमाईस शुरु कर दी है। सबसे बड़ी बात यह है कि जिस बालाकोट (पाकिस्तान) में आंतकियों के अड्डों पर बम गिराकर पाकिस्तान के घर के भीतर घुस कर प्रधानमंत्री हमला कर आंतकियों को चुन-चुन कर मारने का दावा कर रहे हैं ,कम से कम महाराष्ट्र में ये दांव उनके हक में जाता नहीं दिख रहा है ।उस एयर स्ट्राइक का यहां उल्टा असर हो रहा है। लोग विपक्ष और विदेशी मीडिया के इस दावे से इत्तेफाक दर्शा रहे हैं कि कोई एयर स्ट्राइक हुई ही नहीं है?अगर होती तो देश के पीएम और भाजपा जो छोटी-छोटी बातों को बढ़ा-चढ़ाकर पेश कर उसका श्रेय लेने के लिए ललायईत रहते हैं, वे विदेशी मीडिया और विशेषकर मोदी जी के दोस्त अमेरिका की मीडिया द्वारा उठाये गए एयर स्ट्राइक पर सवालों पर जरुर सबूत पेश करते?जैसे अभी हाल ही में अमेरिका द्वारा पेश की गई एफ-16 को मार गिराने के भारत को झूठा बताने पर सरकार ने मात्र एक दिन में ही दो-दो प्रेस कानफ्रेंस कर अमेरिका को तत्काल सबूत दे दिये।उसी तरह एयर स्ट्राइक पर भी तत्काल सबूत देते? उल्लेखित है कि एफ-16 पर अमेरिका की मीडिया द्वारा ये दावा करने के बाद कि पाकिस्तान के सभी एफ-16 सुरक्षित हैं,पर भारत सरकार ने सैटेलाइट से लिये गये फोटो और वीडियोज विश्व के सामने तत्काल पेश कर दिये, जिससे अमेरिका को पीछे हटना पड़ा और भारत के दावों को सही मानना पड़ा।

मुंबई के अभिनय गायकवाड़ कहते हैं कि यदि मोदी जी ने पाकिस्तान के घर में घुस-घुसकर आंतकवादियों को मारा तो सबूत देने में कोताही क्यों? वे आगे कहते हैं कि विपक्ष का तो काम ही है प्रश्न पूछना, इसमें सरकार को क्या आपत्ति है।अगर मारे तो सबूत विपक्ष के मूंह पर मारो न, हम सरकार के साथ खड़े हैं। वहीं कुर्ला के लगभग 85 वर्षिय मंजूर खान कहते हैं कि मोदी जी जो कहते हैं, वो करते भी हैं, मोदी जी जैसे प्रधानमंत्री की आज भी देश को जरुरत है। मगर वे इस बात पर हंस गये और गंभीर हो गये कि आप वोट किसको दोगे? इस पर उन्होने कहा कि वोट मन का और ईव्हीएम मशीन का।इसके अलावा भी लोग लगभग दोनों राष्ट्रीय दलों के पक्ष में अपने-अपने हिसाब से समर्थन में बोले, मगर एक बात सामान्य थी की मुंबई पर एयर स्ट्राइक का असर ज्यादातर सरकार के पक्ष में नहीं है। इसके अलावा 7 वें वित्त आयोग की अनुशंसा महाराष्ट्र में लागू न करना भी भाजपा के पक्ष में नहीं है। जिन सरकारी अधिकारी और कर्मचारियों ने पिछले लोकसभा चुनाव 2014 में कांग्रेस के घोटालों से तंग आकर भाजपा का दामन थामा था, वे इस बार चुनाव में भाजपा से खिंचे-खिंचे नजर आ रहे हैं,उनमें सातवें आयोग अनुशंसा लागू न किये जाने नाराजगी झलक रही है। मुंबई और महाराष्ट्र के लोगों का यह कहना भी सच लग रहा है कि आज की तारीख में भाजपा ने शिवसेना द्वारा काफी बेइज्जती करने के बाद भी और शरद पवार की एनसीपी द्वारा कांग्रेस को कई दफा झटका देने के बावजूद इसलिये समझौता किया है, क्योंकि दोनो पार्टियों की डगर-डगर और गांव-गांव में पकड़ है और इनके बिना दोनों राष्ट्रीय दलों का भला नहीं होने वाला। वर्तमान में महाराष्ट्र से भाजपा के 23,शिवसेना के 18,कांग्रेस के 4 और एनसीपी के दो सांसद हैं। बहरहाल ये देखना बड़ा दिलचस्प होगा कि अगामी 23 मई को परिणाम वाले दिन मुंबई क्या कर दिखाती है, मगर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और भाजपा अपना पिछला प्रदर्शन दोहरायेगी? इसमें संदेह जरुर है,क्योंकि अभी तक तो मुंबई विपक्ष की भाषा बोल रही है।

About Unique Today

Check Also

बज्जिर-संपादक से मिला जौरा शिष्टमंडल, दिया सुरक्षा का आश्वासन ।।।

बज्जिर-संपादक से मिला जौरा का शिष्टमंडल, दिया सुरक्षा का आश्वासन।।। ( छायाचित्र में बायीं ओर …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *