Breaking News
Home / Banner / दादी प्रकाशमणि का 14 वाँ स्मृति दिवस मनाया गया, दादी प्रकाशमणि त्याग, तपस्या व निश्वार्थ सेवा की प्रतिमूर्ति थीं

दादी प्रकाशमणि का 14 वाँ स्मृति दिवस मनाया गया, दादी प्रकाशमणि त्याग, तपस्या व निश्वार्थ सेवा की प्रतिमूर्ति थीं

रिपोर्ट:-अंकुर त्रिपाठी जिला संवाददाता इटावा इकदिल, इटावा प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरी विश्वविद्यालय में पूर्व मुख्य प्रशासिका राजयोगिनी दादी प्रकाशमणि जी का 14 वां स्मृति दिवस विश्व बंधुत्व दिवस के रूप में मनाया गया । स्मृति दिवस कार्यक्रम में मुख्य रूप से उपस्थित समाजसेवी डॉ.सुशील सम्राट ने दादी प्रकाशमणि जी के चित्र पर पुष्प अर्पित कर व दीप प्रज्ज्वलित करके श्रद्दांजलि दी । इस मौके पर डॉ.सुशील सम्राट ने कहा कि दादी जी त्याग, तपस्या निश्वार्थ सेवा की प्रतिमूर्ति थीं । दादी प्रकाशमणि जी ने विश्व पिता शिव परमात्मा के निर्देशन में विश्व के 140 से अधिक देशों में जन मानस को शांति, प्रेम, पवित्रता, विश्व एकता, विश्व बंधुत्व व आपसी भाईचारा विश्व में एक परिवार की भावना का का संदेश दिया । जिनके पद चिंन्हों पर चल कर परम् पिता शिव परमात्मा के निर्देशन में यह ब्रह्म कुमारी संस्था जन-जन को शांति, सद्भावना व एकता का संदेश दे रही है। कायस्थान सेवा केंद्र की प्रभारी बीके साधना दीदी ने कहा कि संस्था के ईश्वरीय ज्ञान का लाभ सभी को लेना चाहिये । उन्होंने कहा कि दादी जी ने अपने कर्मों से समाज में नैतिक व आध्यत्मिक मूल्यों की स्थापना करने की प्रेरणा दी । जिनके मार्गदर्शन में आज 45 हजार से ज्यादा बहिनें समर्पित होकर समाज को नई दिशा देने का काम कर रही हैं । इस अवसर पर देवेन्द्र गुप्ता, कौशल किशोर तिवारी, डिम्पल दुबे, प्राची सक्सेना, सुरेन्द्र, मुस्कान, आशा, कुसमा, ऊषा, पुष्पा, गीता, सावित्री, रानी, उमा दुलारी आदि ने श्रध्दासुमन अर्पित किये ।

About admin

Check Also

अन्नत चतुर्दशी और सम्वत्सरी के दिन सार्वजनिक अवकाश घोषित कर सरकारी स्तर पर मनाए जाने की मांग l

मुख्य सचिव के द्वारे पहुंचे राजस्थान समग्र जैन युवा परिषद् के प्रतिनिधि जयपुर l राजस्थान …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *