Breaking News
Home / लेख

लेख

चम्बल के लिए बहुत खास है यह फोटो :::

चम्बल के लिए बहुत ख़ास है यह फोटो : ये सभी अपनी चम्बल के एक से बढ़कर एक दिग्गज पत्रकार ,साहित्यकार और इतिहासकार है .हमें इन पर गर्व है .फोटो में जानेमाने लेखक साहित्यकार श्री माताप्रसाद शुक्ल इन्होने कई किताबे लिखी है ,डॉ सुरेश सम्राट जो पत्रकारों के पितामह है …

Read More »

बज्जिर-संपादक से मिला जौरा शिष्टमंडल, दिया सुरक्षा का आश्वासन ।।।

बज्जिर-संपादक से मिला जौरा का शिष्टमंडल, दिया सुरक्षा का आश्वासन।।। ( छायाचित्र में बायीं ओर से बज्जिर माड़साहब, मध्य में मुन्नालाल ‘मृदुल’, एवं दाहिनी ओर अखिलेश शर्मा ‘अखिल’ । ) खिलेश शर्मा ‘अखिल’ जौरा। जौरा-पहाड़गढ़ इलाके के शिष्टमंडल ने आज ख्यात स्वतंत्रता-संग्राम सेनानी (घर से) और बज्जिर-टुडे के आत्मघाती संपादक …

Read More »

जनता की अदालत में “बज्जिर-टुडे” के संपादक

जनता की अदालत में ‘बज्जिर-टुडे’के संपादक’ वरिष्ठ पत्रकार श्रीगोपाल गुप्ता हाथ में कागज लिए अदालत में बज्जिर-टुडे पर आरोप लगा रहे हैं। सामने जजमेंट सीट पर बैठे हैं – प्रधान सम्पादक यूनिक-टुडे श्री आनंद त्रिवेदी श्री गोपाल गुप्ता : जै गोपाल जी की माड़साब बज्जिर सम्पादक : जै रघुनाथ जी …

Read More »

रात भर शराब बेचकर कहाँ पहुचाना चाहते हैं समाज को ?

विशेष-टिप्पणी : आनंद त्रिवेदी, प्रधान सम्पादक रात भर शराब बेचकर कहाँ पहुँचाना चाहते हैं समाज को ? आबकारी विभाग, मंत्री जी, कलेक्टर और एसपी के नाम पत्र यूनिक-टुडे। ग्राउण्ड-एक्शन। रात ठीक 12 बजे का वक़्त। मुरैना शहर की एम एस रोड पर आमतौर पर सन्नाटा, जिसे चीरती हुई एक एम्बुलैंस …

Read More »

“2 अखबारों का प्रधान-संपादक हूँ, आपकी ‘पब्लिक सिटी’ छपी है, 12 हजार का बिल है,,,

डा. रामकुमार सिंह  मुरैना।( बज्जिर-टुडे) हमने समझा कि जो संदिग्ध-हिस्ट्रीशीटर जैसी ‘सकल’ का आदमी, अधिकारी से बात कर रहा है वो दो-दो अख़बार चलाता होगा! बाद में उसने खुलासा किया ‘‘अख़बार तो एक ही है उसे दो प्रतियों में छाप लाया हूँ। एक प्रति हमारी फाइल में रहेगी दूसरे से …

Read More »

*✍*संवेदनशील_अधिकारी**

*🛑*जेल में 6 साल से बेगुनाही की सजा  रही खुशी का हुआ इंटरनेशनल स्कूल में एडमिशन, कलेक्टर के साथ स्कूल पहुँची खुशी**  बिलासपुर (छग)- जब एक पिता अपनी बेटी को खुद से विदा करता है तब दोनों तरफ से सिर्फ आंसू ही बहते हैं। बिलासपुर केंद्रीय जेल में ऐसा ही …

Read More »

” कोई बल्ले से ना मारे निगम अधिकारी को”

‘‘कोई बल्ले-से ना मारे निगम-अधिकारी को’’ मुरैना। बज्जिर-टुडे। मुरैना नगर-निगम के अफसरों को खिलाड़ी-नेताओं से दूर रहने की एडवाइजरी जारी की गई है। चम्बल डिवीजन क्रिकेट एसोशियन के अध्यक्ष तस्लीम खाँन ने मामले को गंभीरता से लेते हुए अपने लड़कों के अभ्यास का टाइम-टेबल नगर-निगम को भिजवाया है ताकि अधिकारी …

Read More »

आम जनता से कुछ सवाल “जरा दिमाग लगा कर सोचें”

क्या आपको *पत्रकार* की जरूरत नहीं पड़ती??? *आम जनता से कुछ सवाल ?* 1. जब किसी दबंग द्वारा आपका हनन किया जाता है तब क्या आपको एक पत्रकार की जरूरत नहीं पड़ती ? 2. जब प्रशासन के किसी कर्मचारी द्वारा आप परेशान किये जाते हैं तब क्या आपको एक पत्रकार …

Read More »

पीजी कॉलेज के मूलचंद (मूला) और निगम के मूलचंद (वर्मा)!

मुरैना। बज्जिर टुडे। दो मूलचंद हैं। दोनो ‘खूंटा-पकड़’ हैं। एक थे। एक हैं। एक पीजी कॉलेज की फीस खिड़की के अंदर बैठते थे और दूसरे नगर निगम मुरैना में ‘नहीं बैठते हैं’ । दोनों ही बड़े ‘बज्जिर’ व्यक्तित्व हैं। ‘मूला’ दिन भर सक्रिय रहकर रात में निढाल हो जाता था …

Read More »

अकेला चना भी भाड़ फोड़ सकता है….

अविश्वसनीय, बेजोड़ , अदभुत कहानी , आसाम में रहने वाले एक आदिवासी की जिसके कामो की गूंज ब्रह्मपुत्र की लहरों में बहते , सोंधी जंगली हवाओं में महकते , घने पेड़ो की सरसराहट से होते , हज़ारो किलोमीटर दूर दिल्ली में “राष्ट्रपति भवन” तक पहुंची | इस सीधे साधे आदिवासी …

Read More »